Dr. Goyals Website Agra logo
We Treat the Patient even in Terminal Stage.
It Cares & Treats in a Better Way

FAQ'S


what are the best homeopathic medicines for high Urea and Kidney Creatinine

Name:-Nirbhay Patel

Answer homoeopaths attempt to identify the single medicine that corresponds to a patient's general "constitution" a complex picture incorporating current illness (physical and mental), medical history, personality, behavior and family history. We call it as Tailored medicine - Two patients with identical conventional diagnosis may receive very different homoeopathic medicines. As you know same strategy cannot be adopted to control the terrorism in all the victim countries, in the similar way Homeopathic medicines are based on the individual personality trait and behavioral reactions. Mental attitude, living style and environmental modalities indicate the specific medicine for a patient. ....... please visit the site http://drgoyals.com/classical-homepathy.html
2 years ago

Is Ayurvedic medicine effective for kidney disease?

Name:-Neetu kumari

Answer Ayurvedic medicine tries to force the diseased kidneys to work more to produce more urine. Initially it seems to happen but in the long run, kidneys get exhausted easily, kidney patient passed into a more complicated stage. Moreover, it has not yet been confirmed by randomized double-blind placebo control trial. They use a fixed set of medicines to all kidney patients irrespective of their causation of kidney failure. http://drgoyals.com/why-best.html
2 years ago

मेरे भाई का किड्नी फेल हो गया है, क्रेटिना बहुत ज़्यादा हो गया है, नेफ्रो ने तुरन्त डाइलिसिस कराने के लिए बोला है. आयुर्वेदा वाले कहते हैं कि डाइलिसिस करने के बाद आयुर्वेदिक मेडिसिन काम नहीं करती हैं. मुझे क्या करना चाहिए? क्या आप की होम्योपैथी मेडिसिन मेरे भाई को ठीक कर सकती हैं?

Name:-Ramesh Ganapati

Answer डायलिसिस का काम शरीर से कुछ प्रकार की गंदगी को साफ़ करने का होता है, इसका किसी भी उपचार में कोई दखल नहीं होता है । डायलिसिस एक जीवन रक्षक प्रणाली मात्र है, इसका किडनी रोगी को ठीक करने के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है । यह निश्चित है कि होमियोपैथी इलाज़ किडनी रोगी को पूर्णतः स्वस्थ करने में सक्षम है । जबकि आयुर्वेदिक दवाएँ बीमार गुर्दों को ज़बरदस्ती मजबूर करती हैं ज़्यादा पेशाब बनाने के लिए, इसीलिए बाद में रोगी और ज़्यादा बीमार कमजोर हो जाता है.
2 years ago

क्या आप बता सकते हैं कि होम्योपैथी उपचार आयुर्वेदिक इलाज़ से ज़्यादा बेहतर कैसे है?

Name:-mahesh pratap sikarwar

Answer होम्योपैथी सभी आयु वर्ग (नवजात से लेकर बुजुर्ग व्यक्ति) तक बहुत अच्छी तरह से प्रभावी है। होम्योपैथी सबसे अच्छी है। होम्योपैथी कुछ आपात स्थितियों से बहुत अच्छी तरह निपट सकती है। सभी बीमारियों में होम्योपैथी का उपयोग किया जा सकता है? उदाहरण के लिए यह दांत दर्द या कान का दर्द या मिरगी में समान रूप से प्रभावी है? (योग, आयुर्वेदिक आदि ऐसी स्थितियों में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है)। होम्योपैथी आदर्श है। आकस्मिक मामलों में होम्योपैथी का प्रभावी ढंग से उपयोग किया जा सकता है जबकि योग, आयुर्वेदिक आदि का उपयोग ऐसी स्थितियों में नहीं किया जा सकता है। मलेरिया जैसे संक्रामक रोगों में होम्योपैथी सबसे अच्छी है; आंत्र ज्वर; मैनिंजाइटिस, टीबी आदि जबकि योग, आयुर्वेदिक आदि का उपयोग ऐसी स्थितियों में आत्मविश्वास से नहीं किया जा सकता है। होम्योपैथी बहुत सुरक्षित है और इसका कोई साइड-इफेक्ट नहीं है, इसलिए इसका इस्तेमाल बच्चों में या गर्भवती महिलाओं में बिना किसी डर के किया जा सकता है। होमियोपैथी इसके उपयोग में सबसे सरल है। आयुर्वेदिक उपचार में बहुत सारे प्रतिबंध लगाए गए हैं और आपको अपनी जीवन शैली को स्थायी रूप से बदलना पड़ सकता है, जबकि आप बिना किसी प्रतिबंध के बीमारी से मुक्त हो सकते हैं। अंतत: हम पाते हैं कि होम्योपैथी एकमात्र चिकित्सीय प्रणाली है जो सभी मानदंडों को पूरा करती है। दरअसल यह जीन के जरिए काम करता है। इसलिए यह सभी नामित या अनाम रोगों में उपयोगी है; सभी उम्र में भी यह बम में भ्रूण को सही कर सकता है। वास्तविक अर्थों में शास्त्रीय होम्योपैथी आनुवंशिक इंजीनियरिंग करती है (लेकिन कोई भी विश्वास नहीं कर सकता है) इसीलिए यह आनुवांशिक बीमारियों में भी उतना ही प्रभावी है। इसके अलावा, होम्योपैथी एकमात्र उपलब्ध उपचार प्रणाली है जो किसी रोगग्रस्त व्यक्ति के भाग्य का अनुमान लगा सकती है। होम्योपैथी सभी बीमारियों के लिए एकल दवा निर्धारित करती है। इसके साथ ही यह मूल कारण को भी मानता है। यह सभी प्राकृतिक रोगों का इलाज कर सकता है।
2 years ago

क्या श्वांश Asthama रोग का होम्योपैथी में कोई पर्मनेंट permanent इलाज़ होता है?

Name:-Neelam Gupta

Answer homeopathy treats the case of asthama permanently and quickly.
2 years ago
About Us

We have been treating kidney problems with the help of many homeopathic doctors working with us in a team system. We are doing classical homeopathy (which is best of all) that is based on pure homeopathic principles that is using single medicine at a time and without homeopathic mixers or lequids or mother tinctures

Read More
Like Us On Facebook
Contact Us
Dr.K K Goyal,
Address:
26, Shyam Nagar,
Near Maruti Residency
Shahganj-Bodla Road,
Agra 282010, India,
Tel:562 2275443

Mobile: +91 992 740 8608
+91 980 898 9874(whatsapp)